सीने में दर्द | Homeopathic Medicine For Chest Pain | छाती में दर्द का होम्योपैथिक इलाज

सीने में दर्द | Homeopathic Medicine For Chest Pain | छाती में दर्द का होम्योपैथिक इलाज


नमस्कार, मेरे चैनल में आपका स्वागत है और आज इस वीडियो में हम चेस्ट पेन, छाती सुई के गड़ने जैसा दर्द, दर्द के साथ धड़कन जैसी समस्या को ठीक करने की होम्योपैथिक दवा के बारे में जानेंगे, अगर आपको भी यह समस्या है तो यह वीडियो आपके लिए बहुत उपयोगी है। वीडियो को पूरा अवश्य देखें ताकि आप पूरी तरह समझ पाएं, तो आइये समझते हैं। हृदय को चारों ओर से लपेटकर उसका पोषण करने वाली धमनियां “कोरोनरी आर्टरीज” कहलाती हैं। इनमें रक्त के रुक जाने से हृदय पर दबाव पड़ता है और दर्द होता है यह इतना तेज दर्द होता है कि मृत्यु सामने खड़ी दिखाई देने लगती है। कभी-कभी पेट में गैस बनने के कारण भी ऐसा होता है। शरीर का रंग फीका पड़ जाता है, शरीर पसीने से तर-बतर हो जाता है और दर्द छाती से लेकर बाएं कंधे तथा बाएं हाथ में छोटी उंगली तक फैल जाता है। ऐसा दर्द स्त्रियों की अपेक्षा पुरुषों में अधिक होता है। यहाँ इस रोग का लक्षण और उसकी मुख्य होम्योपैथिक दवा की चर्चा कर रहा हूँ, जिससे यह समस्या पूरी तरह ठीक हो जाती है। बाएं छाती के नींचे पंजरे में सूई चुभने जैसा, डंक मारने तथा अकड़न जैसा एक प्रकार का दर्द होता है जिसे पसलियों का स्नायुशूल कहा जाता है, जो सांस अंदर खींचने पर बढ़ता है। बरसात या शीत रितू में ठंढ लगने के कारण या डायफ्रॉम के वात के कारण या किसी भी अन्य कारण से क्यों न हो Rananculus 30 दिन में तीन बार देने पर निश्चित रूप से आराम होता है। यह दवा दाहिने की अपेक्छा बाएं तरफ के दर्द में ज्यादा कारगर ढंग से कार्य करता है। छाती के दाहिने भाग में पंजरे के सातवें रिब्स में Liver के नीचे दर्द होने पर Carduus Marianus 30 देने से आराम ओत है। Carbo Veg 30 — यदि पेट में बहुत अधिक वायु के कारण छाती पर दबाव पड़ने से हृदय में दर्द का अनुभव हो, तो इस औषधि की एक मात्रा भोजन से आधा घंटा पहले देने से बहुत लाभ होता है। Crataegus Q — हृदय के सब रोगों के लिए यह सर्व-प्रधान औषधि है। बाएं हाथ में दर्द होने के हृदय-शूल में इस औषधि के मूल-अर्क (मदर-टिंक्चर) को पानी के साथ 10 बूंद आठ-आठ घंटे के अंतर से देनी चाहिए। Tabacum 30 — हृदय-रोग में प्रायः इस औषधि से लाभ होता है। रोगी को बाईं तरफ लेटने से धड़कन का अनुभव होता है; छाती में दर्द होता है। यह दर्द छाती के मध्य-स्थल से चारों तरफ फैलता है। कभी-कभी बहुत अधिक शारीरिक परिश्रम करने से ऐसा हो जाता है। Spigelia 30 — Spigelia का हृदय शूल इतना उग्र होता है कि कपड़ों के भीतर से हृदय धड़कता दीखता है, सारी छाती हिलती दीखती है, और कुछ दूरी से हृदय धड़कता सुनाई भी पड़ता है। हृदय की धड़कन के उग्र दौरों में इससे शीघ्र शांत होते देख गया है। इस प्रकार के हृदय के शूल में रोगी केवल दाईं तरफ और सिर ऊंचा करके ही लेट सकता है। ऐन्जाइना पैक्टोरिस जो हृदय का रोग है, और जिसमें हृदय का दर्द सीने से प्रारम्भ होकर बायें कन्धे और बायीं बांह तक फैल जाता है, उसमें भी यह विशेष लाभदायक है। अल्कोहल अथवा तंबाकू आदि के अधिक सेवन से हृदय पर बोझ-सा महसूस करना में भी यह लाभ पहुँचता है। Latrodectus 12x — हृदय-शूल के लिए यह अत्यंत उपयोगी औषधि है। विशेषतः हृदय के दौरे के बाद ठीक हो जाने पर भी जिन्हें कभी-कभी हृदय में दर्द हो जाया करता है और यह संदेह हो जाता है कि रोग का पुनः आक्रमण न हो जाए, ऐसे रोगियों को 12x शक्ति में यह औषधि दिन में 2-3 बार देते रहने से फिर दिल का दौरा नहीं पड़ता।


2 thoughts on “सीने में दर्द | Homeopathic Medicine For Chest Pain | छाती में दर्द का होम्योपैथिक इलाज

  1. Sar mein dant ko nikalwa Diya hun ghav ko sukhane aur infection se bachne ke liye ye masudon ko majbut karne ke liye please medicine bataen

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *